हैलो रायपुर
Hello Raipur
Reflection of Chhattisgarh
Home कायदे कानून जानकारिया

म्यूचूअल फंड : प्राथमिक जानकारी


हमारे कई साथियों मे म्यूचल फंड के बारे मे जानने की इच्छा व्यक्त की है। लेकिन कई ऐसे मित्र भी है जो म्यूचूअल फंड के बारे मे विस्तार से जानना चाहते है। आइए इस बार बात करते है म्यूचूअल फंड की। लेकिन आगे बढने से पहले आपको जानना होगा कि शेयर, सरकारी प्रतिभूतिया बांड और म्यूचूअल फंड क्या होता है।
शेयर (Shares) - जैसा कि आपको पता है किसी भी व्यापार को चलाने के लिए पूँजी की आवश्यकता होती है। यदि व्यापार छोटा है तो निजी, पारिवारिक अथवा मित्रों के स्तर पर पूँजी की व्यवस्था की जाती है अथवा कंही ऋण लिया जाता है। लेकिन यदि व्यापार काफी बड़े स्तर पर हो, पूँजी की व्यवस्था सार्वजनिक रुप से की जाती है। ऐसे मे पूँजी को छोटे छोटे हिस्सों मे बाँट दिया जाता है जिन्हे शेयर कहा जाता है और इस शेयर को पब्लिक को खरीदने के लिए आमंत्रित किया जाता है। इसका मतलब है कि यदि आपने किसी कम्पनी के शेयरधारक है तो आप उस कम्पनी मे पूँजी के उतने हिस्से के हकदार है। कम्पनियां अपना मुनाफ़ा इन शेयरधारकों के बीच बाँटती है जिसे डिवीडेंड कहते है। इन कम्पनियों के शेयर, शेयर बाजार मे भी बिक्री खरीद के लिए उपलब्ध होते है। यदि कोई कम्पनी पहली बार अपने शेयर बाजार मे लाती है तो उसको इनीश्यल पब्लिक ऑफरिंग (IPO) कहते है। ये तो रही शेयर की बात, आइए अब बात करते है डिबेंचर की।

डिबेंचर (Debenture) - डिबेंचर भी शेयर की तरह होता है, बस फर्क इतना होता है कि यह पूँजी का हिस्सा ना होकर, कम्पनी द्वारा पब्लिक से मांगा गया ऋण होता है। इस डिबेंचर पर कम्पनिया प्रतिवर्ष, डिवीडेंड की जगह ब्याज देती है। कई कम्पनियां डिबेंचर को शेयर मे स्थानांतरित करने का भी प्रावधान रखती है। आजकल डिबेंचर का प्रचलन कम हो गया है।

सरकारी प्रतिभूतिया (Government Bonds) - जिस तरह व्यापारियों को व्यापार चलाने के लिए पूँजी की आवश्यकता होती है उसी प्रकार सरकारों को भी काम-काज चलाने के लिए पूँजी की जरुरत होती है। वैसे तो यह पूँजी सरकार टैक्स लगाकर इकट्ठा करती है, लेकिन कभी कभी किसी प्रोजेक्ट विशेष के लिए सरकार बॉन्ड भी जारी करती है। इसी तरह विभिन्न पूँजीगत संस्थाएं (Financial Institutions) भी बॉंड जारी करती है। सरकारी प्रतिभूतियों पर ब्याज थोड़ा कम मिलता है लेकिन इसमे पूँजी की गारंटी सरकार देती है, इसलिए यह एक सेफ इंवेस्टमेंट की तरह माना जाता है।

म्यूचूअल फंड (Mutual Fund) - आइए अब बात करते है म्यूचूअल फंड की। जैसा कि आपको पता है कि शेयर बाजार मे निवेश करने के लिए आपको काफी समय, जानकारी और कुछ हद तक (अच्छी खासी) पूँजी की आवश्यकता होती है। अब बड़े निवेशक तो शेयर मार्केट के होने वाले उतार-चढावों पर नजर रखने के लिए समय निकालते है, लेकिन कई ऐसे छोटे निवेशक भी होते है जिनके पास समय और पूँजी की कमी होती है। उदाहरण के लिए मान लीजिए आप और आपके पाँच मित्रों के पास 50,000 रुपए (प्रति व्यक्ति) है जिनको आप शेयर बाजार मे लगाना चाहते है, लेकिन आपको शेयर बाजार के झंझटों के बारे मे कोई जानकारी नही है और ना ही इतना समय है कि आप अपने व्यापार/नौकरी से समय निकालकर इस निवेश पर नजर रख सकें। तो आपके पास विकल्प क्या है:

आप किसी पहचान वाले बन्दे को पकड़े जो शेयर बाजार मे निवेश करता हो।

किसी संस्था को पैसा दे दो, जो आपकी तरफ़ से शेयर बाजार मे निवेश करे।

आप सभी अपना अपना पैसा मिलाकर एक साथ, एक जगह निवेश करें और किसी भी एक व्यक्ति जो इस बारे मे जानकारी रखता हो, उस पर निवेश की देखरेख करने के जिम्मेदारी लगा दें।

अब मान लीजिए आप लोग पाँच नही, बल्कि पूरे 5000 लोग है, तो ऐसे मे आपके पास विकल्प म्यूचूअल फंड का ही है। इसमे आप अपना निवेश म्यूचूअल फंड मैनेजमेन्ट कम्पनी (Asset Management Company) को दे देते है। आपके पैसे की देखभाल पेशेवर फंड मैनेजर करते है जो शेयर बाजार की बारीकियों को अच्छी तरह से समझते है। बदले मे ये म्यूचूअल फंड कम्पनिया आपसे कुछ हिस्सा अपने खर्चों र्सरकार अपनी नीतियो द्वारा इन म्यूचूअल फंड कम्पनियों पर निगरानी रखती है। इस पूरी प्रक्रिया मे म्यूचूअल फंड कम्पनिया अनेक प्रकार की स्कीम लाती है, हर स्कीम मे लगाए जाने वाली पूँजी को छोटे छोटे, बराबर के हिस्सों मे (शेयरों की तरह) बाँट दिया जाता है। निवेशक अपने अपने हिस्से के हकदार होते है जिन्हे यूनिट (Unit) कहा जाता है। इस तरह छोटे निवेशक भी शेयर बाजार मे अप्रत्यक्ष रुप से हिस्सा ले सकते है।

लेकिन म्यूचूअल फंड के क्या फायदे है और ये शेयरों से किस तरह से अलग है?

म्यूचूअल फंड के कई फायदे है, अव्वल तो इसमे आपको कम पूँजी, कम समय और काफी कम तकनीकी जानकारी की आवश्यकता होती है। इसके अलावा इसमे जोखिम भी (अपेक्षात शेयर बाजार के) कम रहता है। म्यूचूअल फंड के फायदों को संक्षेप मे इस तरह से बताया जा सकता है:

1.म्यूचूअल फंड महंगे शेयरों मे निवेश करने का सस्ता तरीका है।

2.म्यूचूअल फंड मे जोखिम कम होता है क्योंकि आपका पैसा किसी एक शेयर मे ना लगाकर, कई शेयरों मे एक साथ लगाया जाता है।

3.म्यूचूअल फंड पेशेवर फंड व्यस्थापकों (Fund Managers) द्वारा चलाए जाते है, जिनको शेयर बाजार की काफी अच्छी जानकारी होती है। इनको किसी भी शेयर मे प्रवेश करने और बाहर निकलने के अवसरों का बेहतर ज्ञान रहता है।

4.म्यूचूअल फंड हाउस (AMCs) के पास अपनी रिसर्च टीम होती है, इनके पास शेयरों के सम्बंध मे तकनीकी जानकारी और विश्लेषण मौजूद रहता है। कुल मिलाकर इनकी रिसर्च टीम किसी भी निवेशक के मुकाबले शेयर बाजार की अधिक जानकारी रखती है।

5.छोटे निवेशक का समय और श्रम बचता है।

6.म्यूचूअल फंड की गतिविधियों पर सेबी की कड़ी नजर रहती है, इस तरह से छोटे निवेशकों के हितों को अनदेखा नही किया जाता।

7.म्यूचूअल फंड मे आप निश्चित अवधि मे आटोमेटिक तरीके से (SIP) से निवेश अथवा निकासी (SWP) कर सकते है।

8.चूँकि म्यूचूअल फंड बड़े स्तर पर खरीदारी करते है इसलिए उनको ब्रोकरेज और अन्य खर्चों र्पर भी बचत होती है।

9.म्यूचूअल फंड के निवेश मे काफी ज्यादा पारदर्शिता होती है।

10.निवेशक को किसी भी प्रकार का निवेश खाता (Demat Account) नही खोलना पड़ता।

11.निवेशक सही समय पर किसी भी एक स्कीम से दूसरी स्कीम मे जा सकता है।

म्यूचूअल फंड के नुकसान - दुनिया मे कोई ऐसी चीज नही जिसके फायदे हों और उसके नुकसान ना हो। म्यूचूअल फंड मे भी कुछ नुकसान हो सकते है, उदाहरण के लिए:

1.म्यूचूअल फंड हाउस के खर्चों र्पर निवेशक का नियंत्रण नही रहता।
2.निवेशक को अपनी पसन्द के शेयर खरीदने (Customized Portfolio) का आप्शन नही रहता। निवेशको को म्यूचूअल फंड की किसी स्कीम को ही चुनना होता है।

3.म्यूचूअल फंड की सही स्कीम का चुनाव करना भी एक टेढी खीर है।

म्यूचूअल फंड किस तरह से बाजार मे पैसा लगाते है।

म्यूचूअल फंड, अपने निवेशको द्वारा प्रदान किए गए पैसों को एक जगह एकत्रित करते है और उस फंड से शेयर बाजार मे खरीद फरोख्त करते है। चूँकि फंड हाउस काफी बड़े स्तर पर खरीद फरोख्त करते है इसलिए इनको बाजार के उतार चढावों का अच्छा ज्ञान होता है। सही समय पर शेयरों मे खरीद बिक्री की जाती है और आने वाले नफ़े-नुकसान को उसी एकत्रित फंड मे रखा जाता है। म्यूचूअल फंड कम्पनिया अपने खर्चो को इसी फंड से निकालती है। म्यूचूअल फंड के निवेश को सार्वजनिक किया जाता है और प्रतिदिन फंड को अपनी नैट एसैट वैल्यू (NAV) अर्थात हर यूनिट का खरीद और बिक्री मूल्य प्रकाशित करना होता है। इसी मूल्य पर निवेशक, म्यूचूअल फंड मे अपना निवेश और निकासी कर सकते है। नैट एसैट वैल्यू से किसी भी फंड के स्वास्थ्य की जाँच की जा सकती है। निवेशक को यह अधिकार है कि वह किसी भी समय अपना पैसा लेकर फंड से बाहर निकल सकता है।

Tags :
General Rules Cricket Rules Legal Rules General Information Should Know Must Kkow Rulesकायदे कानून जानकारिया म्यूचूअलफंडप्राथमिकजानकारी

भारतीय संविधान इतिहास राम के सेतु का बनाम सेतुसमुद्रम Property Market Raipur मानहानि का दावा क्या है? और कैसे न्यायालय में प्रस्तुत किया जा सकता है? जाने क्या हैं पावरप्ले के नियम विमान यात्रा के दौरान थर्मोमीटर रखना क्यों होता है वर्जित? हमारी ३ जी से पहले आ गई उनकी ४ जी प्रॉपर्टी ट्रांसफर से पहले जानें उसके कायदे-कानून म्यूचूअल फंड : प्राथमिक जानकारी कम्प्यूटर छेड़ने वाले सावधान!! कानून को जानिये : अधिवक्ता अधिनियम 1961 के अंतर्गत अधिवक्ताओं का आचरण सूचना का अधिकार : आप अवश्य उपयोग करें उपभोक्ता संरक्षण के नियम जानिए इंटरनेट बैंकिंग के बारे में एटीएम का उपयोग करते समय ध्यान दे। Hockey ke Niyam डकवर्थ लुईस नियम Know about human rights commission फुटबाल के नियम की जानकारी वसीयत की नसीहत: क्या करें, कैसे करें
1 | 2 |
Contact Us | Sitemap Copyright 2007-2012 Helloraipur.com All Rights Reserved by Chhattisgarh infoline || Concept & Editor- Madhur Chitalangia ||